01 February 2011

पता नहीं

तेरे जाने की वजह पता नहीं
आँखें नम है क्यूँ पता नहीं
क्यूँ है दूरी ये पता नहीं
क्यूँ खपा हो तुम पता नहीं

अश्क कब रुकेंगे पता नहीं
हम कब टूटेंगे पता नहीं
क्या होगा बहाना पता नहीं
दिल का हाल जताना पता नहीं

कब ख़तम होगी रात पता नहीं
कब आएगी सुबह पता नहीं
है दिल में लाखो सवाल
जवाब जिनका पता नहीं

कब उल्ज़ी ज़िन्दगी ऐसे पता नहीं
कौनसी राह है आगे पता नहीं
किसको छोड़ा पीछे हमने पता नहीं
क्या है सही हममे पता नहीं
क्यूँ है हम गलत पता नहीं

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...