07 March 2012

बिखरे हुए लब्ज - 1

बिखरे हुए लब्ज - 1  - Compiled from my twitter timeline

अब रास्तोने मोहब्बत की दुकाने खोल रखी हैं!
Ab rastone mohabbat ki dukaane khol rakhi है!
*****

दिल की गुनाहोँकी गवाह खुद तू है,
तुझसे क्या उम्मीद दिल-की-दवाह, जब बीमार खुद तू है!
Dil ke gunaahonki gawah khud tu he,
Tujhase kya ummid dil-ki-dawah, jab beemar khud tu hai!
*****

अकेला कहाँ हूँ? 
तन्हाई हमेशा साथ रहती  है!
Akela kahan hu? 
Tanhaai hamesha saath rehati hai!
*****

अब तू वो साँस बन गयी है
जो आखिरी होगी तो भी गम नहीं!
Ab tu wo saans ban gayi hai
jo aakhiri hogi to bhi gam nahi
*****

हमे फुरसत नहीं उनके खयालोसे,
और उन्हे हमारे खयाल के लिये भी फुरसत नहीं!
Hame fursat nahi unake khayalonse, 
Aur unhe hamare khayal ke liye bhi fursat nahin
*****


वो बेफिक्र है इस बातसे, की,
हर साँसमें  उनकाही जिक्र है
Wo befikra hai is bat se, ki,
Har saansme unakahi jikra hai

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...