29 January 2017

ना तू पहला प्यार है मेरा , और ना तू है आखरी ...




जब साथ थे , तो कहा था तुमने -
"तू दुनिया है मेरी ... "

बेवफा बनके फिर, तू केह गया, चुपकेसे ,
जोर की बात - "ना तू पहला प्यार है मेरा ,
और ना तू है आखरी ..."

फिर कभी सोच लेती हूं ,
कैसे कर लेते हो तुम प्यार की बात ?


No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...